Jump to content
SHASHI MEENA

क्या तीसरे पक्ष से जानकारी देने की सहमति इस इस मे जरूरी है ?

Recommended Posts

SHASHI MEENA

मुझे भारतीय जीवन बीमा निगम द्वारा एक 10 लाख रुपये के गलत मृत्यु दावे के भुगतान की जानकारी मिलने पर मेरे द्वारा rti से उक्त पॉलिसी के रिकार्ड को देखने की मांग की गई cpio ने उस केस के नॉमिनी को 3rd पार्टी इनफार्मेशन मानते हुए(जबकि ये अवैध एव गलत है बूम पूरा होने के बाद दस्तावेजो की मालिक lic होती है न कि ग्राहक क्यूंकि उसने घोषणा की होती है कि जो भी जानकारी वो प्रस्ताव में दे रहा है पूरी तरह से सत्य है इसी प्रकार डेथ कलेम में नामिनी द्वारा जो जानकारी दी गयी वो पत्र भी lic की प्रॉपर्टी होती है) नामिनी जिसको भुगतान किया गया उसके पास उसके द्वारा दिये पत्रों को सूचना मांगने वाले को देने न देने की अनुमति से भेजा गया । उस व्यक्ति के पास lic ने मेरी आइडेंटिटी पता मो नम्बर भेज दिए । उसने मुझे धमकाने की नीयत से फोन किया आपका क्या ओर क्यों जानना चाहते है ..आपको इस केस से क्या लेना देना । ऐसी स्थति में मुझे लगता है निगम के भर्स्ट लोगो ने जानबूझकर मेरी पहचान ऊजागर की ताकि में चुप हो जाऊं.. मित्रों बताये गाइड करे इस केस में क्या गलत हुआ है मुझे अब क्या करना चाहिए ।

 

 

Sent from my Redmi 4 using RTI INDIA mobile app

 

 

Share this post


Link to post
Share on other sites
SHASHI MEENA
4 hours ago, SHASHI MEENA said:

 

मुझे भारतीय जीवन बीमा निगम द्वारा एक 10 लाख रुपये के गलत मृत्यु दावे के भुगतान की जानकारी मिलने पर मेरे द्वारा rti से उक्त पॉलिसी के रिकार्ड को देखने की मांग की गई cpio ने उस केस के नॉमिनी को 3rd पार्टी इनफार्मेशन मानते हुए(जबकि ये अवैध एव गलत है बूम पूरा होने के बाद दस्तावेजो की मालिक lic होती है न कि ग्राहक क्यूंकि उसने घोषणा की होती है कि जो भी जानकारी वो प्रस्ताव में दे रहा है पूरी तरह से सत्य है इसी प्रकार डेथ कलेम में नामिनी द्वारा जो जानकारी दी गयी वो पत्र भी lic की प्रॉपर्टी होती है) नामिनी जिसको भुगतान किया गया उसके पास उसके द्वारा दिये पत्रों को सूचना मांगने वाले को देने न देने की अनुमति से भेजा गया । उस व्यक्ति के पास lic ने मेरी आइडेंटिटी पता मो नम्बर भेज दिए । उसने मुझे धमकाने की नीयत से फोन किया आपका क्या ओर क्यों जानना चाहते है ..आपको इस केस से क्या लेना देना । ऐसी स्थति में मुझे लगता है निगम के भर्स्ट लोगो ने जानबूझकर मेरी पहचान ऊजागर की ताकि में चुप हो जाऊं.. मित्रों बताये गाइड करे इस केस में क्या गलत हुआ है मुझे अब क्या करना चाहिए ।

 

 

Sent from my Redmi 4 using RTI INDIA mobile app

 

 

 

साथी लोग सलाह दे इसपर क्या करना चाहिये

 

 

Share this post


Link to post
Share on other sites

Create an account or sign in to comment

You need to be a member in order to leave a comment

Create an account

Sign up for a new account in our community. It's easy!

Register a new account

Sign in

Already have an account? Sign in here.

Sign In Now

×
×
  • Create New...

Important Information

By using this site, you agree to our Terms of Use & Privacy Policy